नवदीप सैनी के धमाकेदार डेब्यू से गौतम गंभीर गदगद, बिशन बेदी और चेतन चौहान पर निकाली भड़ास

क्रिकेट

नई दिल्ली: भारत ने शनिवार को सेंट्रल ब्रोवार्ड रीजनल स्टेडियम में खेले गए पहले टी-20 मैच में वेस्टइंडीज को चार विकेट से हरा दिया. जीत के हीरो रहे युवा गेंदबाज नवदीप सैनी (Navdeep Saini) ने इस मैच से अपना धमाकेदार अंदाज में डेब्यू किया. सैनी को भारतीय टीम की ओर से वेस्टइंडीज दौरे के लिए टी20 और वनडे में शामिल किया गया है. अपने पहले ही ओवर में कमाल की गेंदबाजी करते हुए सैनी ने 2 विकेट झटककर अपनी काबिलियत का एहसास करा दिया. नवदीप के प्रदर्शन को पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने जमकर सराहा और इस मौके पर बिशन सिंह बेदी व चेतन चौहान का निशाने पर ले लिया.

क्रिकेट से राजनीति में आए बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने ट्वीट में लिखा, ”भारत टीम में पहली पारी खेलने के लिए नवदीप सैनी तुम्हें बधाई. तुमने गेंदबाजी से पहले ही बिशन सिंह बेदी और चेतन चौहान के विकेट गिरा दिए. टीम इंडिया में तुम्हारा डेब्यू देखकर उनके मिडिल स्टंप उखड़ गए हैं, क्योंकि खेल के मैदान में उतरने से पहले ही उन्होंने तुम्हारा शोक सन्देश लिख दिया था.” शर्म की बात है!!!”
हरियाणा के नवदीप छह साल पहले टेनिस बॉल से शौकिया क्रिकेट खेलते थे. वे अच्छे गेंदबाज थे और इस कारण कई टीमें उन्हें अपनी ओर से खेलने के लिए प्रति मैच 250 से 500 रुपए तक देती थीं. वह तो एक दिन गौतम गंभीर की नजर इस गेंदबाज पर पड़ गई और उनकी किस्मत बदल गई.
नवदीप सैनी ने दिसंबर 2013 में रोशनआरा क्रिकेट मैदान पर दिल्ली की रणजी टीम के अभ्यास सत्र से पहले कभी लाल गेंद से गेंदबाजी नहीं की थी. गौतम गंभीर ने उन्हें देखा और चयनकर्ताओं से उन्हें दिल्ली की टीम में शामिल करने को कहा. नवदीप, जो करनाल के थे, उन्हें शुरू में दिल्ली के चयनकर्ता अपनी टीम में शामिल नहीं करना चाहते थे. उस दौरान बिशन सिंह बेदी और चेतन चौहान डीडीसीए के एक धड़े का हिस्सा थे. हालांकि, गंभीर की कोशिशें से युवा खिलाड़ी को दिल्ली की टीम में जगह मिल गई. इसके बाद इस गेंदबाज ने पीछे मुड़कर नहीं देखा.
नवदीप सैनी का करियर करीब छह साल का है. इस दौरान उन्होंने 43 फर्स्ट क्लास, 41 लिस्ट ए और 34 टी20 मैच खेले. उन्होंने इस साल आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू की ओर से बेहतरीन प्रदर्शन किया था. आईपीएल में विराट कोहली ही उनके कप्तान थे. कोहली ने उन्हें करीब से देखा और उनका हौसला बढ़ाया. नवदीप सैनी विश्व कप के दौरान भारतीय टीम का हिस्सा नहीं थे. इसके बावजूद वे टीम इंडिया के साथ रहे. भारतीय चयनकर्ताओं ने सैनी को रिजर्व गेंदबाज के तौर पर चुना था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *