लॉकडाउन और मंदी के दौर के बीच भी करोड़ों कमा लिए, जानिए कौन है यह





जयपुर. कोरोना (COVID-19) संकट काल के चलते देशभर में लागू लॉकडाउन (Lockdown) में चौतरफा मंदी की मार है. रियल एस्टेट सेक्टर भी इससे अछूता नहीं है. लेकिन लॉकडाउन के इस दौर में भी राजस्थान आवासन मंडल (Rajasthan Housing Board) ने रिकॉर्ड संपत्तियां बेचकर करोड़ों का राजस्व कमाया है. राजस्थान हाउसिंग बोर्ड पिछले काफी से समय अपनी संपत्तियों को बेचने के लिए आकर्षक ऑफर के साथ ऑनलाइन नीलामी प्रक्रिया को अपनाए हुए है. मंडल ने इस प्रक्रिया के माध्यम से बड़ी संख्या में फ्लैट्स और मकान बेचकर रिकॉर्ड आय की है.

बुधवार को 3 करोड़ 65 लाख रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ
राजस्थान आवासन मंडल के आयुक्त पवन अरोड़ा ने बताया कि बुधवार को जयपुर के इंदिरा गांधी नगर योजना स्थित 23 व्यावसायिक सम्पत्तियों को मोहरबंद नीलामी के माध्यम से बेचा गया. इन सम्पत्तियों की नीलामी से मंडल को 3 करोड़ 65 लाख रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ है. अरोड़ा ने बताया कि कोविड-19 के इस संक्रमण काल में भी राजस्थान आवासन मण्डल की सम्पत्तियों को खरीदने का क्रेज लोगों में बरकरार है. लॉकडाउन के बीच इतनी सम्पत्तियों का नीलाम होना बोर्ड की बड़ी कामयाबी को दर्शाता है. कोरोना के असर के बाद भी हाउसिंग बोर्ड की प्रोपर्टी लोगों की पहली पसंद बनी हुई है.

बचाव के सभी इंतजामों के बीच हुई पूरी प्रक्रिया
अरोड़ा ने बताया कि इस नीलामी में सोशल डिस्टेंसिंग की कड़ाई से पालना की गई. नीलामी में भाग लेने वाले सभी बोलीदाताओं की थर्मल स्कैनर से तापमान जांच की गई. जिन बोलीदाताओं का तापमान सही पाया गया उन्हें ही प्रवेश की अनुमति दी गई. नीलामी में कोविड-19 से संबंधित निर्देशों का पूर्ण पालन किया गया. सभी बोलीदाताओं को हैंड सेनेटाइजर एवं मास्क उपलब्ध कराए गए. उन्होंने बताया कि इंदिरा गांधी नगर की 23 व्यावसायिक सम्पत्तियों के लिये 55 बोली प्रस्ताव प्राप्त हुए थे. लगातार हो रही रिकॉर्ड आय से मंडल उत्साहित है. इसके चलते वह उपभोक्ताओं के लिए लगातार आकर्षक स्कीम भी लाता जा रहा है.
 




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *