युवराज – एक ही खबर तीखे तेवर





मुंबई । पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह ने कहा है कि भारतीय टीम को एक अच्छे मनोवैज्ञानिक की जरूरत है, जो टीम के युवा खिलाड़ियों को सही मार्गदर्शन दे सके। युवराज ने कहा कि अभी युवा खिलाड़ियों के पास ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जिससे वे अपने मन की बात कह सकें। युवी के अनुसार भारतीय टीम के पास ऋषभ पंत और हार्दिक पांड्या जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं पर इनके पास कोई ऐसा मनोवैज्ञानिक नहीं है जिससे ये अपनी परेशानी बता पायें।।
युवराज ने कहा, “इस टीम में कोई ऐसा खिलाड़ी नहीं है, जो टीम के साथियों से मानसिकता को लेकर बात कर सके। पृथ्वी और  ऋषभ में आपार क्षमताएं हैं पर इनपर सभी की नजरें लगी रहती हैं जिससे ये दबाव में आ जाते हैं। इन हालातों में कोई ऐसा होना चाहिये जिससे ये अपने मन की बात कह सकें।”
उन्होंने कहा, “पांड्या में काफी प्रतिभा है। किसी को उनकी मानसिकता के साथ काम करने की जरूरत है, जिससे वह कठिन हालातों में भी अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकें। अगर कोई उनकी मानसिकता के साथ काम करे तो वह अगले विश्व कप में काफी बड़े खिलाड़ी के तौर पर उभर सकते हैं।”
युवराज ने टीम के मौजूदा कोच रवि शास्त्री के बारे में कहा, “शास्त्री के मार्गदर्शन में टीम ने अबतक अच्छा प्रदर्शन किया है पर एक कोच के तौर पर वो कैसे मैं नहीं जानता। मैंने उनके मार्गदर्शन में कम ही खेला हूं। मैं जानता हूं कि आप हर खिलाड़ी के साथ एक जैसा व्यवहार नहीं कर सकते। हर खिलाड़ी के साथ व्यवहार के तरीके अलग होते हैं और मुझे इस कोचिंग स्टाफ में ऐसा व्यक्ति नहीं दिखता जो ऐसा कर सके ।”
उन्होंने कहा, “आपके पास बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौर हैं। वह मेरे सीनियर रहे हैं। जब मैं राज्य के लिए खेल रहा था तो वही कई बार मेंटॉर भी रहे थे पर यह भी सही है कि अगर किसी ने लंबे समय तक उस स्तर टी20 की क्रिकेट नहीं खेली है तो वह तकनीक के बारे में तो बता सकता है पर खेल के हालातों को लेकर युवा खिलाड़ियों को मार्गदर्शन नहीं दे पाएगा।।”
इस दौरान युवराज ने सुनील जोशी की अध्यक्षता वाली सीनियर चयन समिति को भी आड़े हाथों लिया और कहा कि इसमें शामिल लोगों ने कुछ ही मैच खेले हैं, ऐसे में ये लोग फैसलों को चुनौती देने के रुख वाले नहीं हो सकते हैं ।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *