जयपुर में CAA प्रोटेस्ट में पहुंचे CM गहलोत, कहा- किसी को भी डिटेंशन कैंप नहीं जाने दूंगा

top-news राज्य




जयपुर. दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) की तर्ज पर जयपुर (Jaipur) में शहीद स्मारक पर CAA और NRC के विरोध में चल रहे धरने में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) पहुंचे. सीएम गहलोत ने धरना दे रहे लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें घबराने की कोई जरूरत नहीं है. आपसे पहले मैं डिटेंशन कैंप (Detention Camp) जाऊंगा. गहलोत ने अपने पुराने बयान को दोहराते हुए कहा कि राजस्थान में सीएए, एनआरसी और एनआरपी लागू नहीं करने दिया जाएगा.

किसी व्यक्ति को डिटेंशन कैंप में नहीं जाने दिया जाएगा
सीएम गहलोत ने कहा कि सरकार आपके साथ है. नरेंद्र मोदी चुने हुए प्रधानमंत्री हैं तो मैं भी प्रदेश की जनता द्वारा चुना गया मुख्यमंत्री हूं. उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसी व्यक्ति को डिटेंशन कैंप में नहीं जाने दिया जाएगा. अगर जाना पड़ा तो प्रदेश का मुखिया होने के नाते आपसे पहले मैं वहां जाऊंगा. नागरिकता संशोधन कानून की चर्चा करते हुए गहलोत ने कहा कि जो बात टेक्निकल रूप से लागू नहीं हो सकती उसे लागू करने का क्या तुक है. यह देश के संविधान की मूल भावना के खिलाफ है. केंद्र सरकार को जन-भावना को समझते हुए कोई भी कानून बनाना चाहिए. गहलोत ने आरोप लगाया कि असम में एजयपुर. दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) की तर्ज पर जयपुर (Jaipur) में शहीद स्मारक पर CAA और NRC के विरोध में चल रहे धरने में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) पहुंचे. सीएम गहलोत ने धरना दे रहे लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें घबराने की कोई जरूरत नहीं है. आपसे पहले मैं डिटेंशन कैंप (Detention Camp) जाऊंगा. गहलोत ने अपने पुराने बयान को दोहराते हुए कहा कि राजस्थान में सीएए, एनआरसी और एनआरपी लागू नहीं करने दिया जाएगा.

किसी व्यक्ति को डिटेंशन कैंप में नहीं जाने दिया जाएगा
सीएम गहलोत ने कहा कि सरकार आपके साथ है. नरेंद्र मोदी चुने हुए प्रधानमंत्री हैं तो मैं भी प्रदेश की जनता द्वारा चुना गया मुख्यमंत्री हूं. उन्होंने कहा कि प्रदेश के किसी व्यक्ति को डिटेंशन कैंप में नहीं जाने दिया जाएगा. अगर जाना पड़ा तो प्रदेश का मुखिया होने के नाते आपसे पहले मैं वहां जाऊंगा. नागरिकता संशोधन कानून की चर्चा करते हुए गहलोत ने कहा कि जो बात टेक्निकल रूप से लागू नहीं हो सकती उसे लागू करने का क्या तुक है. यह देश के संविधान की मूल भावना के खिलाफ है. केंद्र सरकार को जन-भावना को समझते हुए कोई भी कानून बनाना चाहिए. गहलोत ने आरोप लगाया कि असम में एनआरसी लागू होने का वहां की बीजेपी सरकार ही विरोध कर रही है. वहां हिंदू हो या मुसलमान सभी लोगों को इससे काफी परेशानी हुई है.

बीजेपी पर नफरत की राजनीति के लगाए आरोप

मुख्यमंत्री गहलोत ने बीजेपी पर नफरत की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वो देश को तोड़ने की बात करते हैं और कांग्रेस देश को जोड़ने की बात करती है. दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम की चर्चा करते हुए गहलोत ने कहा कि दिल्ली के लोगों ने बीजेपी को सबक सिखा दिया. इस दौरान मंत्री सुभाष गर्ग और कांग्रेस विधायक अमिन कागजी सहित विभिन्न अल्पसंख्यक संगठनों के नेता मौजूद थे. सीएम से पहले सीपीआई के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अंजान ने धरने पर बैठ लोगों को संबोधित किया.नआरसी लागू होने का वहां की बीजेपी सरकार ही विरोध कर रही है. वहां हिंदू हो या मुसलमान सभी लोगों को इससे काफी परेशानी हुई है.

बीजेपी पर नफरत की राजनीति के लगाए आरोप

मुख्यमंत्री गहलोत ने बीजेपी पर नफरत की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वो देश को तोड़ने की बात करते हैं और कांग्रेस देश को जोड़ने की बात करती है. दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम की चर्चा करते हुए गहलोत ने कहा कि दिल्ली के लोगों ने बीजेपी को सबक सिखा दिया. इस दौरान मंत्री सुभाष गर्ग और कांग्रेस विधायक अमिन कागजी सहित विभिन्न अल्पसंख्यक संगठनों के नेता मौजूद थे. सीएम से पहले सीपीआई के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अंजान ने धरने पर बैठ लोगों को संबोधित किया.




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *